प्रदूषण क्या हे ? प्रदूषण के प्रकार और उपाय

तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम बात करने वाले हे प्रदूषण ( Pollution In Hindi ) के बारे में जिनको अंग्रेजी में Pollution कहा जाता हे जबकि संस्कृत में उसे प्रदूषणम कहा जाता हे। वर्त्तमान समय में प्रदूषण एक बहुत बड़ी वैश्विक समस्या बन गई हे जिनकी वजह से इंसान जिव जन्तुओ को बड़ा नुकशान होता हे तो चलो दोस्तों प्रदूषण के बारे में और भी अधिक जानकारी हम पढ़ लेते हे। 

प्रदूषण क्या हे

1 . प्रदूषण क्या हे ? What Is Pollution In Hindi

प्रदूषण का अर्थ होता हे जल , मिट्टी या वायु को दूषित करना या गन्दा करना और अगर हम दूसरे शब्दों में कहे तो प्रदूषण यानिकि पर्यावरण या वातावरण में बिनजरूरी दूषक प्रदार्थो के प्रवेश की वजह से प्राकृतिक या कुदरती संतुलन में पैदा होने वाले दोष को हम प्रदूषण कहते हे जिसकी वजह से इन्सान जिव जन्तुओ को हानि पहुँचती हे।

2 . प्रदूषण के प्रकार

2 . 1 वायु प्रदूषण 

2 . 2 जल प्रदुषण

2 . 3 भूमि प्रदूषण

2 . 4 ध्वनि प्रदुषण

2 . 5 प्रकाश प्रदुषण

2 . 1 वायु प्रदूषण 

  • वातावरण में बिनजरूरी घटको को मिलने से वायु प्रदुषण होता हे जिसके लिए निचे दिए गए कारक जवाबदार साबित होते हे। 
  • वायु प्रदूषण को हम दूसरे शब्दों में बताये तो पृथ्वी की करीब 40 से 50 KM की ऊंचाई पर स्ट्रैटोस्फियर हे जिसमे ओज़ोन का स्तर हे जिनका कार्य सूर्य के पराबैगनी किरणों को शोषित करके उनको धरती पर पहुंचना होता हे लेकिन आज के समय में इस ओज़ोन स्तर में तेज़ी से विघटन हो रहा हे जिनका मुख्य कारक क्लोरोफ्लोरो कार्बन (CFC ) गैस हे जिससे ओज़ोन स्तर का विघटन होता हे।

वायु प्रदूषण के कारक

1 . वाहनों से निकलने वाले गैस 

2 . बड़ी फैक्ट्रियां या कारखाने से निकलने वाले धूमाड़े से 

3 . जंगलो को जलने से 

4 . कोयले से , लकड़ी को जलाने से 

5 . ज्वाला मुखी विस्फोट से

वायु प्रदूषण का प्रभाव

1 . वायु प्रदूषण से वातावरण में ओज़ोन स्तर घटने से कई प्रकार के चर्म रोग और ध्रुवीय प्रदेशो का बर्फ पिघलने लगा हे। 

2 . वायु प्रदूषण से सर्दी , खांसी अंधापन और कमजोरी महसूस करना चर्म रोग जैसी गंभीर बीमारिया पैदा होती हे। 

3 . कुदरती या प्राकृतिक दश्यता में कमी आना। 

4 . आँखों में जलन होना। 

5 . वायु प्रदूषण से बारिश के साथ विषैली प्रदार्थ मिलकर धरती पर आते हे जिसे हम अम्ल वर्षा कहते हे। 

2 . 2  जल प्रदूषण

  • जल प्रदूषण यानिकि जल में बिनजरूरी तत्व या घटको को विसर्जन करना जिसे जल प्रदूषण कहा जाता हे। जल प्रदूषण के मुख्य कारक निचे दिए गए हे। 

जल प्रदूषण के कारक 

1 . बिनजरूरी कचरे को नदी नहेरो में छोड़ देना 

2 . मानव के मल को पानी में विसर्जन करना 

3 . नदी या तालाबों में पशु को नहाना या कपडे की धुलाई करना

4 . कृषि क्षेत्रे इस्तमाल किये जाने वाले ज़हरीले रसायणों को पानी में धुलना 

5 . ज्यादातर प्रेट्रोल , डीजल का परिवहन समुद्र में से ही होता हे ऐसे में अगर जहाज डूब जाने पर जल प्रदूषण होता हे। 

जल प्रदूषण का प्रभाव

1 . जल प्रदूषण से पशु – पक्षी और मनुष्य के स्वास्थ्य पर बहुत गंभीर खतरा होता हे जिसे पीलिया डाइफाईड जैसी बीमारिया पैदा होती हे। 

2 . जल प्रदूषण से पिने लायल पानी की अछत बढ़ती हे। 

3 . कृषि क्षेत्रे दूषित पानी का इस्तमाल करने से पाक में दूषित पानी के तत्व मिल जाते हे जिसे मनुष्य स्वस्थ पर विपरीत असर होती हे। 

2 . 3  भूमि प्रदूषण 

भूमि प्रदूषण के कारक

1 . खेती उत्पादन बढ़ाने के लिए उपयोग होने वाले रसायणों से। 

2 . कारखाने या फ़ैक्टरिया द्रारा निकलने वाले बिनजरूरी कचरे का विसर्जन 

3 . मकान , भवन या सडको के निर्माण में बिनजरूरी कचरे का विसर्जन 

4 . प्लास्टिक की चीजों या थैलियों का ज्यादा इस्तमाल करना जो ज़मीन के लिए बहुत ही नुकशान कारक होती हे। 

भूमि प्रदूषण का प्रभाव

1 . भूमि प्रदूषण से खेती लायक जमीन की कमी होना 

2 . भूमि प्रदूषण से खाने योग्य फल या सब्जी की गुणवत्ता घटती हे।

2 . 4 ध्वनि प्रदूषण

  • अनियंत्रित , ज्यादा और तीव्र असहनीय ध्वनि को ध्वनि प्रदूषण कहा जाता हे। क्या आपको मालूम हे की ध्वनि प्रदूषण की तीव्रता को डेसीबल इकाई में मापा जाता हे। ध्वनि प्रदूषण के मुख्य कारक निचे दिए गए हे।

ध्वनि प्रदूषण के कारक

1 . शादियों में उत्सवों में या फिर प्रचार में लाउडस्पीकर को अनियंत्रित रूप से इस्तमाल करने से। 

2 . वाहनों के हॉर्न से 

3 . वाहनों के ट्रैफिक से

4 . बड़ी – बड़ी फ़ैक्टरिया या कारखाने के मशीनों के आवाज से 

5 . जनरेटरों के द्रारा

ध्वनि प्रदूषण का प्रभाव

1 . ध्वनि प्रदूषण से सुनाने की क्षमता कमजोर होती हे। 

2 . सिरदर्द या चिडचिड़ापन

3 . अनिद्रा और रक्तचाप जैसी बीमारिया पैदा होता हे। 

2 . 5 प्रकाश प्रदूषण

प्रकाश प्रदूषण के कारक

1 . वाहनों में हाई वॉल्ट के बल्ब के द्रारा 

2 . शादियों या उत्सव में अधिक डेकोरेशन से 

3 . एक ही कमरे में ज्यादा बल्ब लगाने से 

प्रकाश प्रदूषण का प्रभाव

1 . आँखों की रोशनी कम होती हे। 

2 . सिरदर्द का होना 

3 . ज्यादा हाई वॉल्ट बल्ब के द्रारा कभी कभी एक्सीटेंट भी हो जाता हे।

3 . प्रदूषण रोकने के उपाय

1 . सबसे पहले प्रदुषण को रोकने के लिए हमें अधिक पेड़ पौधे को लगाना होगा। 

2 . कारखाने के बिनजरूरी कचरे को सही स्थान पर विसर्जन करना 

3 . समाज के लोगो में जागृतता लाना 

4 . जैविक खातर का इस्तमाल करना 

5 . प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा देना। 

6 . वाहनों का बिनजरूरी उपयोग न करे और समय समय पर प्रदूषण की जांच करवाते रहे।

7 . पानी का बिनजरूरी इस्तमाल न करे नदी नाले और पाइप की मरम्मत जल्द से जल्द करवाए।

8 . जिन जरुरी ज़मीन पर पेड़ पौधे लगाए।

ये भी पढ़े। ..

बादल क्या हे ? बादल के प्रकार और रौचक तथ्य

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगे तो आप उसे अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *