भिखारी और अमीर व्यक्ति की प्रेरणादायक कहानी

    तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम आपको एक ऐसी प्रेरणादायक कहानी के बारे में बताने वाले हे जिसको पढ़कर आप भी अपने जीवन में किसी का बुरा नहीं करेंगे और अपने कर्म अच्छे करने लगेंगे। तो चलो दोस्तों इस कहानी को हम शरू करते हे। प्रेरणादायक कहानी

_प्रेरणादायक जीवन-चरित्र कहानी

प्रेरणादायक कहानी

               दोस्तों ये कहानी हे एक भिखारी उसकी पत्नी और एक अमीर व्यक्ति की। भिखारी था वो रोज़ भीग मांगता और जो भी भीग में पैसे या खाना मिलता वो अपनी झोपड़ी में ले जाता और अपनी पत्नी के साथ खाना खाता था। ऐसे भी भिखारी भीग मांगता और उसकी पत्नी के साथ मिलकर खाना खाते थे। भिखारी की पत्नी बीमार होने की वजह से वो झुपड़ी में ही रहती थी।

         एक दिन की बात हे की वो भिखारी एक दिन एक अमीर व्यक्ति के घर के दरवाज़े जाकर भीग मांगता हे। तब वो अमीर व्यक्ति उस भिखारी गंदे गंदे गालिया देता और बोलता क्यू भीग मांगते हो क्या तुम कूच काम क्यों नहीं करते हो , क्या तुम जीवन भर के लिए क्या भीग ही मांगते रहोंगे क्या। और कभी कभी वो अमीर व्यक्ति उस गरीब भिखारी को धक्का भी दे देता। मगर वो गरीब भिखारी बस उतना ही कहता की भगवान तुम्हारे पापो को क्षमा करे। और वहा से चला गया। युवाओं के लिए प्रेरणादायक कहानी 

      दूसरे दिन भी वो भिखारी उस अमीर व्यक्ति के घर के दरवाज़े जाकर फिर से भीग मांगता हे। तब वो अमीर व्यक्ति किसी भी कारण से बहुत ही गुस्से हुआ था और उसने भिखारी को एक पथ्थर मार दिया और वो पथ्थर भिखारी को सिर पर लगा जिसकी वजह से भिखारी के सिर से खून बहने लगा। मगर तब भी वो भिखारी बस इतना ही बोला की भगवान तुम्हारे पापो को क्षमा करे। और वहाँ से आगे की और जाने लगा। मगर उस व्यक्ति का जब गुस्सा कम हुआ तो वो अमीर व्यक्ति सोचने लगा की मैने उस भिखारी को पथ्थर से मारा फिर भी उसने मेरे कूच भी न कहकर मेरे लिए भगवान से दुआ मांगी। मुझे जानना पड़ेगा की इसके पीछे का राज क्या हे। और फिर वो अमीर व्यक्ति उस भिखारी के पिछे पिछे चलने लगा। वो भिखारी जहाँ जहाँ जाता वहाँ वहाँ वो अमीर व्यक्ति भी जाने लगा। तो वो अमीर व्यक्ति देखता हे की कोइ उस भिखारी को गालिया देता को कूच लोग उस भिखारी को ज़लील करते मगर भिखारी उन सब को बस उतना ही कहता ही भगवान तुम्हारे पापो को क्षमा करे। धीरे धीरे श्याम होने ही वाली थी और भिखारी अपनी झुपड़ी में वापस लौट रहा था। और वो अमीर व्यक्ति भी उसके पिछे ही था। भिखारी ने जैसा ही अपनी झुपड़ी में प्रवेश किया तो उसकी पत्नी उठ खड़ी हुइ और भीग का कटोरा देखने लगी। तो उस भीग के कटोरे में केवल एक ही रोटी थी। तब भिखारी की पत्नी बोल उठी की बस इतना ही और कूच नहीं हे और ये आपका सिर पर ये चोट कैसी हे ? तब वो भिखारी बोला की आज के लिए इतना ही हे सब ने मुझे ज़लील किया , गालिया दी और पथ्थर मरे जिसकी वजह से ये चोट हे। ये सब अपने ही पापो का कर्म हे। क्या तुम्हे याद हे की कूच सालों पहले हम कितने अमीर हुआ करते थे। हमारे पास सब कुच होने के बाद भी हमने कभी दान नहीं किया। क्या तुम्हे याद हे वो अँधा भिखारी जिनका हम मज़ाक उड़ाते थे और रोटी की जग़ह कागज़ के टुकड़े रख देते थे और कभी कभी हम उसको मारते भी थे। एक बार तो मैने उसके भीख मांगने के कटोरे को भी फेक दिया था। तब भिखारी की पत्नी ने कहा की हा मुझे याद हे। मगर वो अँधा भिखारी सिर्फ उतना ही बोलता था की तुम्हारे पापो का हिसाब में नहीं भगवान करेंगा। और आज उस भिखारी की हाय हमको लगी। तब वो भिखारी बोला की में कभी भी किसी को बदुआ नहीं देता। चाहे मेरे साथ कितनी लोग गालिया दे या मेरा अपमान करे मगर मे सब को दुआ ही देता रहुंगा। क्योकि में ये नहीं चाहता की कोइ और भी मेरे जैसे इतने बुरे दिन देखे। मेरे साथ गलत करने वालो को में हमेंशा दुआ ही देता रहुंगा। क्योकि उनको ये मालूम ही नहीं होता की वो क्या पाप कर रहे हे। जैसी हमने भुगती हे ये कोइ और ना भुगते इसलिए में हमेंशा दुआ ही माँगता हु। ये सब बाते वो अमीर व्यक्ति सुन रहा था। उसे अब सारी बातें समझ आ गइ। दूसरी और उस भिखारी और उसकी पत्नी ने जो भी भीख मिली थी वो खाकर सो गए।

         अगले दिन वही भिखारी उस अमीर व्यक्ति के घर के दरवाज़े जाकर भीख मांगने लगता हे। तब वो अमीर व्यक्ति ने भिखारी को बहुत सारी रोटिया दी और मुस्कुराते हुए बोला की माफ़ करना बाबा मेरे से ग़लती हो गइ। तब भिखारी ने कहा की भगवान तुम्हारा भला करे। और वो अपने रास्ते चला गया। बच्चो के लिए प्रेरणादायक कहानी 

        तो दोस्तों इस कहानी से हमें ये ही सीखना चाहिए की इंसान तो बस दुआ और बदुआ ही देता हे लेकिन वो दुआ और बदुआ पूरी तो वो भगवान कर्मो के हिसाब से ही करता हे। इसलिए दोस्तों हो सके तो अपने जीवन में अच्छे कर्म ही करे। क्योकि भगवान दिखता तो नहीं हे मगर सबका हिसाब पक्का रखता हे।

    तो दोस्तों अगर आपको ये प्रेरणादायक कहानी पसंद हे तो आप इस कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *