Hormone – हार्मोन के बारे में जानकारी

तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम हार्मोन के बारे में बात करने वाले हे जिनको अंत: स्राव भी कहा जाता हे। हार्मोन हमारे शरीर के विकास , पाचन , वृद्धि , वजन , प्रजनन के लिए बहुत जरुरी होता हे हार्मोन का कम होना या अधिक होना हमारी सेहत पर गहरा प्रभाव डालता हे यानिकि मानव शरीर के पुरे विकास के लिए हार्मोन का संतुलन होना जरुरी हे। तो चलो दोस्तों हार्मोन के बारे में हम और भी अधिक जानकारी को देख लेते हे। हार्मोन की जानकारी

हार्मोन क्या हे ?

हार्मोन एक जटिल कार्बनिक प्रदार्थ हे जो सजीवों में होने वाली जैव और रासायनिक क्रियाओ का नियमन करता हे। हार्मोन अपने उत्पत्ति स्थल से दूर की कोशिकाओं या ऊतकों में कार्य करते हे जिसकी वजह से उनको ” रासायनिक दूत ” भी कहा जाता हे।

दूसरे शब्दों में कहे तो हार्मोन शरीर में बनने वाले एक तरह का कैमिकल हे जो रक्त के माध्यम से अंगो ऊतकों तक पहुचता हे जो आपके शरीर में शरीर बढ़ना , यौन गतिविधिया , प्रजनन आदि क्रिया में हार्मोन सहायक होते हे।

हार्मोन अधिक समय तक नहीं रहते यानिकि वो कार्य समाप्ति होने के बाद नष्ट हो जाते हे या फिर उत्सर्जन क्रिया से बहार निकल जाते हे। हार्मोन का ज्यादा या कम होना शरीर में व्यवधान उत्पन करता हे।

सभी प्रकार के जन्तुओ और पौधे में तरह – तरह के हार्मोन पाए जाते हे पौधे में पाए जाने वाले हार्मोन को वानस्पतिक हार्मोन कहा जाता हे। पौधे में पाए जाने वाला हार्मोन वनस्पति की वृद्धि , विकास , बीजो का अंकुरण , पत्तो का निर्माण , जड़ो की वृद्धि , फलो का निर्माण , फलो का पकना , कोशिका विभाजन यानिकि पौधे में होने वाली विविध जैविक क्रियाओ में सहायक होते हे।

जन्तुओ में हार्मोन अंत: स्त्रावी ग्रंथियों से स्वावित होता हे बहुत ही अल्प मात्रा में हार्मोन मानव शरीर में स्वावित होते हे और रक्त के जरिये शरीर के विविध अंगो तक पहुंचते हे।

स्टलिंग नामक वैज्ञानिक ने सर्वप्रथम हार्मोन नाम का प्रयोग किया था।

हार्मोन क्या है

महत्वपूर्ण हार्मोन   

1 . थायराइड हार्मोन ( Thyroid Hormone )

2 . इंसुलिन (Insulin )

3 . एस्ट्रोजेन (Estrogen )

4 . प्रोजेस्टेरोन ( Progesterone )

5 . टेस्ट्रोस्टेरॉन ( Testosterone )

6 . सेरोटोनिन ( serotonin )

7 . कोर्टिसोल ( Cortisol )

8 . एड्रेनालाईन ( Adrenaline )

9 . वृद्धि हार्मोन ( Growth Hormone ) 

10 . प्रोलैक्टिन ( Prolactin )

हार्मोन स्वावित करने वाली ग्रंथिया

1 . पीनियल ग्रंथि – हमारे मस्तिष्क में पाए जाने वाली पीनियल ग्रंथि से मेलाटोनिन हार्मोन निकलता हे। 

2 . एड्रेनल ग्रंथि – यह ग्रंथि किडनी के ऊपर होती हे जिससे एड्रेनेलिन हार्मोन हे।

3 . अग्राशय ग्रंथि – इन्सुलीन हार्मोन निलकता हे।

4 . पिट्यूटरी ग्रंथि – ADH , लेक्टोजेनिक , ऑक्ससीटोक्सिन और STH हार्मोन।

5 . थायराइट ग्रंथि – थाइरॉक्सिन हार्मोन 

6 . अंडाशय – एस्ट्रोजन नामक हार्मोन पाया जाता हे।

हार्मोन असंतुलन

हार्मोन असंतुलन यानिकि हमारे शरीर में या तो कोई हार्मोन कम हो या फिर कोई हार्मोन ज्यादा हो इसका नियंत्रण करना बहुत जरुरी होता हे क्योकि हार्मोन असंतुलन होने से कई समस्या हो सकती हे। 

हार्मोन असंतुलन के लक्षण

1 . नींद न आना या फिर कम आना 

2 . ज्यादा प्यास , ठंड या गर्मी लगना

3 . तनाव महसूस करना 

4 . वजन का बढ़ना 

5 . पसीना आना

6 . शरीर में थकान को महसूस करना 

7 . गैस , कब्ज होना 

8 . बालो का झड़ना या बाल सफ़ेद होना। 

हार्मोन असंतुलन के उपाय

1 . पोषकतत्व आहार का ज्यादा सेवन करे। 

2 . फलो का सेवन करे 

3 . पर्याप्त नींद ले यानिकि करीब 6-7 घंटे आराम करे। 

4 . अपनी दिनचर्या में व्यायाम को जगह दे यानिकि सुबह व्यायाम करे और प्राणायाम भी करे। 

5 . शरीर में पानी की कमी न होनी चाहिए। 

6 . ओट्स और दही को आहार में शामिल करे। 

7 . नारियल पानी पिए।

ये भी पढ़े। ..

प्लास्टिक क्या हे ? प्लास्टिक के प्रकार , फ़ायदे और नुकशान

हार्मोन के बारे में सबंधित सवाल

1 . महिलाओ में कौन से हार्मोन पाया जाता हे?

शरीर के सभी हार्मोन में एस्ट्रोजन होता हे जिसे फिमेल हार्मोन और टेस्ट्रोस्टेरॉन को मेल हार्मोन कहा जाता हे ये दोनों ही हार्मोन महिलाओ में पाए जाते हे लेकिन महिलाओ में एस्ट्रोजन का स्तर ज्यादा होता हे और पुरुषो में टेस्ट्रोस्टेरॉन का स्तर ज्यादा होता हे। 

2 . हार्मोन की कमी से क्या होता हे?

महिलाओ में गर्भावस्था के दौरान या मेनोपॉज की स्थिति में हार्मोन का असंतुलन होने से कई समस्याये हो सकती हे जबकि पुरुषो में हार्मोन की कमी होने से यौन इच्छा में कमी , चिड़चिड़ापन , नपुंसकता , बालो का कम या ज्यादा उगना आदि समस्याये हो सकती हे। 

3 . तनाव के लिए कौन सा हार्मोन जिम्मेदार होता हे?

एंडोर्फिन हार्मोन की वजह से आनंद की अनुभूति होती हे उसी तरह तनाव के लिए कोर्टिसोल हार्मोन को जिम्मेदार माना जाता हे तनाव प्रतिक्रिया के सबंध के कारण कोर्टिसोल को “स्ट्रैस हार्मोन ” भी कहा जाता हे।

4 . हार्मोन कितने होते हे ?

हमारे शरीर में कुल 230 तरह के हार्मोन होते हे जो शरीर में तरह – तरह के कामो को कंट्रोल करते हे। 

अगर आपको ये जानकारी पसंद हे तो आप इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *