Indian Bael Fruit In hindi

भगवान शिव का रूप माना जाता हे इस वृक्ष को – बेल

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम बात करने वाले हे भगवान शिव के प्रिय वृक्ष बेल के बारे में जिनको अंग्रेजी में Indian Bael Tree कहते हे। बेल का पेड़ भारत के सबसे पुराने पेड़ो में से एक पेड़ हे। और भारतीय ग्रंथो में इस पेड़ को दिव्य वृक्ष कहा गया हे। इस पेड़ के फल को श्री फल और सदाफल के नाम से भी जाना जाता हे। तो चलो इस पेड़ के बारे में और इसके फल के सेवन से क्या लाभ होते हे ये देख लेते हे। Indian Bael In Hindi

बेल पेड़ के बारे में जानकारी – Indian Bael In Hindi

1 . बेल के पेड़ का वैज्ञानिक नाम Aegle Marmelos हे। 

2 . भारत के आलावा ते वृक्ष श्रीलंका , नेपाल , पाकिस्तान , वियतनाम और थाईलैंड में भी पाया जाता हे। 

3 . बेल के पत्ते जो की एक साथ तीन पत्ते होते हे उन्हें त्रिदेव का स्वरूप माना जाता हे। 

4 . गर्मियों के दौरान बेल के पत्ते गिर जाते हे और मार्च से मई के बिच में नए फूल आने लगते हे जबकि फल मार्च से लेकर मई के बिच आते हे। Indian Bael In Hindi

5 . बेल का फल बहुत ही कठिन होता हे लेकिन अंदर से मुलायम , गद्देदार एवं बीजो से भरपूर होता हे। 

6 . बेल का फल जब कच्चा होता हे तब वो हरे रंग का होता हे लेकिन ये फल पकने पर सुनहरे पिले रंग का हो जाता हे।

7 . बेल के पत्ते हरे रंग के होते हे और उनके आगे का भाग नुकीला और सुगन्धित होता हे। जबकि इस वृक्ष का फल गोलाकार या अंडाकार होता हे। 

8 . बेल में प्रोटीन , थायमिन , बीटा – केरोटीन , राइबोफ्लेविन और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाए जाते हे।

बेल फल के सेवन के लाभ – Benefit Of Bael Fruit In Hindi

1 . बेल के पत्तो का रस शरीर पर लगाने के बाद स्थान करने से शरीर की बदबू दूर होती हे। 

2 . बेल का रस और उनमे सहेज मात्रा में घी मिलाकर फिर उसका सही मात्रा में सेवन करने से दिल सबंधित बीमारियों से बचा जा सकता हे। 

3 . अगर आपको एसिडिटी की समस्या हे तो आप बेल के रस को शहद के साथ मिलाकर फिर उनका सेवन करने से आपको राहत मिलती हे।

4 . बेल के पत्तो का रस सिर पर लगाने से सिरदर्द कम होता हे।

5 . पके हुए बेल के फल या उनका रस पिने से पाचन शक्ति अच्छी रहती हे। 

6 . बेल का मुरब्बा के सेवन से दस्त में लाभ होता हे। 

7 . अगर आपको पेट के सबंधित कोइ भी रोग के लिए बेल का मुरब्बा एक फायदेमंद उपाय हे। 

8 . शहद और बेल के पत्तो को मिलाकर नियमित रूप से सुबह और शाम पिने से ल्यूकोरिया में लाभ होता हे। 

9 . बेल के रस का सेवन करने से कब्ब , गैस और अपच की समस्या दूर होती हे। 

10 . प्रतिदिन लम्बे समय तक हर सुबह खाली पेट बेल के करीब 3 या 4 पत्ते चबाने से मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता हे।

11 . बेल के सेवन से स्कर्वी रोग की संभवना कम रहती हे क्योकि इस फल के सेवन से हमारे शरीर में विटामिन सी की पूर्ति होती हे। Indian Bael In Hindi

तो दोस्तों अगर आपको ये आर्टिकल पसंद हे तो आप इस आर्टिकल अपने दोस्तों के साथ भी को सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *