खसखस की जानकारी फ़ायदे और नुकशान

तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम बात करने वाले हे खसखस की जानकारी फ़ायदे और नुकशान के बारे में बात करने वाले हे। करीब 3000 से भी अधिक सालो से खसखस की खेती होती आ रही हे। आयुर्वेद के अनुसार खसखस का उपयोग अनेक रोगो व बीमारियों के इलाज के तौर पर किया जाता हे। तो चलो दोस्तों खसखस के बारे में और भी अधिक जानकारी फ़ायदे और नुकशान हम जान लेते हे। 

Khaskhas ke fayade

अन्य भाषाओ में खसखस के नाम :

हिंदी में खसखस
संस्कृत में विरण , उशीर , वीर , जलवास
मराठी में वाला
पंजाबी में पानी
उर्दू में खस
गुजराती में सुगन्धिवालो
तेलुगु कुरुवेरु
नेपाली खस
  • खसखस क्या हे ? khaskhas kya hai ?
  • खसखस पौधे की जानकारी – khaskhas Information In Hindi 
  • खसखस खाने के फ़ायदे – Khaskhas Ke fayade 
  • खसखस खाने के नुकशान – khaskhas ke nukshan

खसखस क्या हे ?

खसखस एक सुगन्धित वर्षानुवर्षी औषधीय पौधा हे जिनका प्रकंद बहुत ही सुगंधित होता हे जिनका इस्तमाल प्राचीन काल से औषधि के तौर पर किया जाता हे और इत्र तथा साबू भी बनाये जाते हे। 

खसखस पौधे की जानकारी – khaskhas ki jankari

1 . तो दोस्तों सबसे पहले हम बात करने वाले हे की खसखस का वानस्पतिक नाम क्या हे ? तो खसखस का वानस्पतिक नाम वेटिवीरिआ जिजेनिऑयडिज हे जिनकी व्युत्पत्ति तमिल के शब्द वेटीवर से हुई प्रतीत होती हे। 

2 . खसखस की खेती भारत , ऑस्ट्रेलिया और तुर्की जैसे देशो में की जाती हे जबकि भारत में खसखस की खेती उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में की जाती हे जिनमें सबसे अधिक राजस्थान के भरतपुर और अजमेर जिलों में खसखस उगाई जाती हे।

3 . खसखस पौधे की ऊंचाई करीब दो मीटर के आसपास होती हे। 

4 . खसखस के जड़ का इस्तमाल करके हाथ के पंखे और परदे भी बनाये जाते हे जिन परदे को गर्मियों के दौरान कमरे में लगाने से कमरे में सुगन्धित हवा आती हे और मन मस्तिक को ठंडक मिलती हे।

खसखस खाने के फ़ायदे -khaskhas khane ke fayade

खसखस में कैल्शियम , पोटैशियम , मेग्नेशियम , फाइबर और आयरन जैसे खनिज तत्व पाए जाते हे जो हमारे शरीर स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोगी साबित होते हे।

1 . आपको कब्ज की समस्या हे तो आपके लिए खसखस बहुत ही असरकारक साबित होता हे क्योकि खसखस में पाए जाने वाला फाइबर कब्ज को दूर करने में बहुत ही लाभदायक साबित होता हे।

2 . पेशाब से सबंधित समस्या हे जैसे की पेशाब कम आना , पेशाब रुक – रुक के आना आदि में आप करीब दो से चार ग्राम खसखस के जड़ के चूर्ण में करीब पांच ग्राम मिश्री मिलाकर और फिर उसका सेवन करे और ऐसा करने से पेशाब सबंधित समस्या से छुटकारा पाया जा सकता हे।

3 . अगर आपके शरीर के किसी भाग पर सूजन हे तो 10 से 20 ग्राम खसखस का सेवन करने से सूजन कम होती हे। 

4 . अगर आपको ज्यादा पसीना आता हे तो आप खसखस की जड़ का चूर्ण बनाकर अपने शरीर पर उसका लेप करे आपको पसीना कम आने लगेगा। 

5 . करीब 10 से 40 ग्राम मिली खसखस की जड़ का सेवन करने से डायबिटीज के दर्दी के लिए बहुत भी लाभदायक साबित होता हे। 

6 . अगर आपको अनिद्रा की समस्या हे तो आप सोने से पहले खसखस के पेस्ट को दूध के साथ लेने से आपकी अनिद्रा की समस्या दूर होती हे। 

7 . खसखस के बीज साँस की बीमारियों के लिए कारगार साबित होता हे और ये खांसी को कम करने में मदद करता हे। 

खसखस खाने के नुकशान – nkhaskhas khane ke Nukshan

1 . गर्भवती महिलाओ को खसखस का सेवन करना नहीं चाहिए या फिर वो डॉक्टर की सलाह ले उसके बाद ही सेवन करे। 

2 . अधिक मात्रा में खसखस का सेवन करने से पेट भरा हुआ महसूस होता हे। 

3 . अगर आप कोई दवाई ले रहे हे तो पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह ले बाद में ही खसखस का सेवन करे।

ये भी पढ़े। .

अदरक की जानकारी और फायदे 

पुदीना की जानकारी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *