किंगफिशर पक्षी -Kingfisher Bird In Hindi

        तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम किंगफ़िशर पक्षी के बारे में बात करने वाले हे जिनका इंग्लिश नाम भी Kingfisher Bird हे। ये पक्षी दीखने में एक मध्यम कद का पक्षी हे जो की एक फुर्तीला पक्षी हे। तो चलो दोस्तों इस पक्षी के बारे में और भी अधिक रोचक जानकारी को हम देख लेते हे। Kingfisher Bird In Hindi

Kingfisher bird in hindi

Kingfisher Bird In Hindi

1 . तो दोस्तों सबसे पहले हम बात करने वाले हे की किंगफ़िशर का वैज्ञानिक नाम क्या हे ? तो इस पक्षी का वैज्ञानिक नाम Alcedinidae हे। और ये पक्षी रेगिस्तान और ध्रुवीय इलाको को छोड़कर हर जग़ह पाया जाता हे। 

2 . पूरी दुनिया में किंगफ़िशर की करीब 90 प्रजातिया पाइ जाती हे। जबकि भारत में इस पक्षी की 9 प्रजाति पाइ जाती हे।

3 . किंगफ़िशर की सबसे छोटी प्रजाति अफ़्रीकी बौना किंगफ़िशर हे जिनके वजन के बारे में बात करे तो इसका वजन करीब दस ग्राम के आसपास रहता हे जबकि इसका आकर करीब दस सेमि हे। और सबसे लम्बा जायंट किंगफ़िशर जिनका वज़न करीब 350 ग्राम के आसपास और उनका आकर 45 सेमि होता हे। 

4 . इस पक्षी के पंख ज्यादातर चमकीले होते हे। और ये पक्षी दिन के दौरान ही सक्रीय होता हे। 

5 . किंगफ़िशर पक्षी के पास एक लम्बी और चाकू जैसी चोंच होती हे जिनका इस्तमाल वो मछलिया और किट पतंगों को पकड़ने के लिए करता हे।

6 . अगर आपने इस पक्षी को देखा होगा तो ये पक्षी ज्यादातर पेड़ , बिजली के तार पर दिखने को मिल जायेगा यानिकि ये पक्षी जमीन पर बहुत कम ही दिखाइ देता हे। 

7 . किंगफ़िशर एक सुंदर और सबको अपनी तरफ़ आकर्षित करने वाला पक्षी हे। 

8 . इस पक्षी को उसके दूसरे नाम  ” किलकिला ” और ” राम चिड़िया ” के नामों से भी जाना जाता हे। 

9 . ज़्यादातर किंगफ़िशर पक्षी पानी के आसपास यानिकि तालाबों , सरोवरों , झीलों या नदियों के किनारे पाया जाता हे।

10 . आमतौर पर किंगफ़िशर पक्षी का वज़न करीब 30 से लेकर 50 ग्राम के आसपास रहता हे।

Essay On Kingfisher Bird In Hindi

11 . सबसे बड़ा किंगफ़िशर ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता हे जबकि सबसे छोटे किंगफ़िशर अफ्रीका में पाया जाता हे। 

12 . आमतौर पर नर किंगफ़िशर और मादा किंगफ़िशर एक जैसे ही दीखते हे मगर मादा नर से ज्यादा चमकीले होती हे जिसकी वजह से आप उनको पहचान सकते हे। 

13 . किंगफ़िशर एक मांसाहारी पक्षी होने की वज़ह से उनका मुख्य खोराक मछलिया हे मगर उसके आलावा किंगफ़िशर किट – पतंगों , छोटे जीवों को भी अपना शिकार बनाता हे।

14 . पानी के आसपास ये पक्षी बहुत ही एकांत होकर बैठा रहता हे और जब भी कोइ मछली या फिर किटक नज़र आता हे तो उस पर तुरंत हमला बोल देता हे और उसे पकड़ लेता हे। 

15 . इस पक्षी के शरीर का अधिकतर भाग कत्थई रंग का होता हे जबकि उसका ऊपरी हिस्सा नीले रंग का होता हे। 

16 . ये पक्षी अपना घोसला ज़मीन पर बनाता हे और सबसे ख़ास बात ये हे की उसके घोंसले में पहले सुरंग होती हे और फिर बाद में घर होता हे। 

17 . अन्य पक्षियों की तुलना में इसब पक्षी के पैर कमज़ोर होते हे।

18 . छोटे कद के किंगफ़िशर जनवरी से जून तक और बड़े कद के किंगफ़िशर मार्च से लेकर जुलाई में अपना घोसला बनाते हे। 

19 . मादा किंगफ़िशर करीब 3 से लेकर 6 अंडे देती हे। और दोनों अपने अंडो को सहते हे। 

20 . इस पक्षी के अंडे सफ़ेद और चमकदार होते हे। और किंगफ़िशर के बच्चे जन्म के बाद करीब दो महीनों तक अपने मातापिता के साथ ही रहते हे।

21 . ऑस्टेलिया में पाइ जाने वाली लाफिंग जैक नामक किंगफ़िशर प्रजाति अपनी चिल्लाने जैसी हसी की वजह से प्रसिद्र हे। 

22 . अगर हम किंगफ़िशर पक्षी के जीवनकाल के बारे में बात करे तो इस पक्षी का जीवनकाल करीब दस साल के आसपास रहता हे। 

कपोतक पक्षी की जानकारी। ..

  तो दोस्तों अगर आपको किंगफ़िशर पक्षी की जानकारी पसंद हे तो आप इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ भी सेर जरूर करे।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *