चीड़ के बारे में जानकारी – Pine Plant In Hindi

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम चीड़ पेड़ के बारे में बात करने वाले हे जिनको अंग्रेजी में Pine Tree कहते हे। दिखने में ये एक सीधा बढ़ने वाला पेड़ हे यानिकि ये सीधा पृथ्वी पर खड़ा होता हे। आयुर्वेद में इस पेड़ को हमारी सेहत के लिए बहुत ही उपयोगी माना जाता हे। ज्यादातर ये पेड़ पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में पाए जाते हे। तो चलो दोस्तों इस पेड़ के बारे में और भी जानकारी और चीड़ से हमें क्या फ़ायदे होते हे ये भी देख लेते हे। Pine Plant In Hindi

Pine plant in hindi

Pine Tree Information In Hindi – चीड़ के बारे में जानकारी

1 . चीड़ पेड़ का वैज्ञानिक नाम Pinus हे। जबकि ये पेड़ Pinaceae ( पाइनेसि ) कुल का पौधा हे। 

2 . ये पेड़ उत्तरी यूरोप , उत्तरी अमेरिका , उत्तरी अफ्रीका जबकि एशिया में भारत , बर्मा और जावा में पाए जाते हे। 

3 . चीड़ के मुख्य दो प्रकार होते हे। जिनमें एक कोमल या सफ़ेद चीड़ जबकि दूसरा कठोर या पीला चीड़ शामिल हे। 

4 . क्या आपको पता हे की दुनिया की सब उपयोगी लकड़ियों में से लगभग आधा भाग चीड़ के द्रारा पूरा होता हे। यानिकि पुल निर्माण के लिए , इमारतों में , रेलग़ाडी की पटरियों सब कामों में चीड़ की लकड़ी का इस्तमाल किया जाता हे। 

5 . चीड़ का पेड़ करीब 80 मीटर तक लम्बा हो सकता हे।

6 . इस पेड़ की छाल को काटने से एक प्रकार का चिकना गौद निकलता हे जिसे गंधविरोजा कहते हे। जबकि इस पेड़ से तारपीन का तेल भी निकाला जाता हे। 

7 . इस पेड़ में दो प्रकार की डहनिया पाइ जाती हे जिनमें एक लम्बी टहनिया और दूसरी छोटी टहनिया शामिल हे। 

8 . चीड़ की कई जातिया ऐसी भी होती हे जिनके बीज खाने के काम आते हे जिनमें पश्चिमोत्तर हिमालय का चिलगोजा चीड़ अपने सूखे फल के लिए प्रसिद्र और मुल्यवान हे। 

9 . अगर आपको इस पेड़ को पहचाना हो तो आप इस पेड़ को उसकी लम्बाई और उनकी पत्तियों के आकर से पहचान सकते हे।

चीड़ के फ़ायदे – Benefits Of Pine In Hindi

1 . अगर छाती के ऊपर चीड़ का तेल लगाने से या मालिश करने से श्वास और खांसी में लाभ होता हे। Pine benefits In Hindi

2 . अगर आप अपने घाव पर गंधविरोज़ा लगाने से घाव जल्दी भर जाता हे। 

3 . कई ऐसे लोग हे जिनको मुँह के छाले की समस्या होती हे तो उअन्के लिए इस पेड़ से निकलने वाला गौद ( गंधविरोजा ) का काढ़ा बनाकर कुल्ला करने से मुँह के छाले ठीक हो जाते हे। 

4 . अगर आपको दाद और खुजली की समस्या हे तो आप इस समस्या के लिए चीड़ की गोंद    ( गंधविरोजा ) को दाद या खुजली वाली जगह पर लगाने से दाद और खुजली की समस्या ठीक हो जाती हे।

5 . छोटे बच्चो को सर्दी लग जाने पर चीड़ के तेल में बराबर मात्रा में सरसों का तेल मिलाकर फिर उससे बच्चो की मालिश करने से उनको जल्द ही आराम मिलता हे।

6 . चीड़ में पाए जाने वाला विटामिन सी जो हमारी शरीर में सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को उत्तेजित करता हे और शरीर में एंटीऑक्सीडेंट का भी संचार होता हे। 

ये भी पढ़े। .

पुदीना पौधे की जानकारी और फायदे

तुलसी की जानकारी 

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद हे तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे। ताकि वो भी इस जानकारी को जान सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *