शीशम के बारे में जानकारी और उनके फ़ायदे

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम बात करने वाले शीशम वृक्ष के बारे में जिनको अंग्रेजी में Rosewood Tree कहा जाता हे। शीशम भारत का एक जाना माना वृक्ष हे जिनका ज़्यादातर इस्तमाल फर्नीचर और इमरती लकड़ी के लिए किया जाता हे। लेकिन इनके सिवाय इस वृक्ष में औषधीय गुण भी मौजूद हे जिनसें कई बीमारिया दूर होती हे। तो चलो शीशम के बारे में और भी अधिक रोचक जानकारी और उनके औषधीय फ़ायदे जान लेते हे। Sheesham Plant In Hindi

Sheesham Tree in Hindi

शीशम के बारे में जानकारी – Indian Rosewood In Hindi 

1 . शीशम के वृक्ष सबसे ज्यादा ब्राज़ील में पाए जाते हे। 

2 . शीशम की लकड़ी , पत्तिया और जड़ सब काम में आते हे लेकिन सबसे ज्यादा शीशम की लकड़ी का इस्तमाल किया जाता हे। जबकि शीशम का औषधीय तौर पे भी इस्तमाल होता हे। 

3 . शीशम की लकड़ी घरों के फर्नीचर और इमरती कामो में इनका इस्तमाल किया जाता हे। 

4 . शीशम भारत में पाइ जाने वाली सभी अच्छी और मज़बूत लकड़ियों में से एक हे। 

5 . शीशम की लकड़ी का रंग बादामी होता हे और वो मजबूत होती हे। 

6 . अगर हम इस वृक्ष की ऊंचाई की बारे में बात करे तो ये वृक्ष करीब 30 मीटर के आसपास ऊँचा होता हे। sheesham Plant In Hindi

7 . शीशम की पत्तिया को आप अपने पशु को भी खिला सकते हे।

8 . शीशम के फूल पिले रंग के जो कद में छोटे होते हे।

9 . Indian Rosewood ( भारतीय शीशम ) का वैज्ञानिक नाम Dalbergia Sissoo हे। 

10 . शीशम के आयुर्वेदिक गुण भी मौजूद होते हे जिनसे कई समस्याए दूर होती हे।

शीशम के औषधीय फ़ायदे – Benefit Of Sheesham In Hindi

1 . अगर आपको पेशाब सबंधित बीमारिया जैसे की पैशाब में दर्द होना , पैशाब में जलन होना और पैशाब का रुक रुक के आना तो इसके लिए शीशम के पत्तियों का काढ़ा बनाकर नियमित रूप से सेवन करने से आपको लाभ होंगा। 

2 . शरीर या अंग में जलन होने पर जिस अंग में जलन हो वहा शीशम का तेल लगाने से जलन दूर हो जाती हे।

3 . शीशम के पत्ते का रस निकालकर फिर उसमें मधु मिलाकर फिर उनकी एक या दो बून्द आँखों में डालने से आँखों की जलन में राहत मिलती हे।

4 . सुबह और शाम शीशम के पत्ते के रस का सेवन करने से एनिमिया में भी लाभ होता हे। 

5 . शीशम के दस पत्ते को 25 ग्राम मिश्री के साथ मिलाकर पीस लो उनके बाद सुबह और शाम उनका सेवन करने से गोनोरिया का रोग दूर होता हे। 

6 . अगर किसी भी महिला को स्तनों की सूजन रहती हे तो उसके लिए शीशम के पत्तो को गरम करने के बाद उन पत्तो को स्तनों पर बांधने से सूजन कम होती हे। 

7 . शीशम के तेल को चोट लगे घाव पर लगाने से घाव जल्दी भर जाते हे।

8 . महिलाये अगर शीशम के पत्तो के काढ़ा से योनि को साफ़ या धोने से ल्यूकोरिया में लाभ होता हे। 

9 . अगर आपको दांतो में दर्द और जोड़ो का दर्द हे तो आप शीशम के तेल की रुइ के फ़ाहे में लगाकर दांतो के निचे रखने से आपको दांतो में राहत मिलती हे।

10 . ह्र्दय रोग दर्दीयो के लिए शीशम का तेल एक रामबाण उपाय साबित होता हे। क्योकि शीशम के तेल का सेवन करने से रक्तपात सही रहता हे। Sheesham Information In Hindi

चीड़ के बारे में जानकारी

तो दोस्तों अगर आपको ये आर्टिकल पसंद हे तो आप इस आर्टिकल को सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *