सिंघाड़ा की जानकारी , फायदे और नुकशान

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम बात करने वाले हे सिंघाड़ा के बारे में जिनको अंग्रेजी में Water Caltrop कहते हे। सिंघाड़ा पानी में पसरने वाली एक लता में पैदा होने वाला एक स्वादिष्ट फ़ल हे। तो चलो दोस्तों सिंघाड़ा के बारे और भीअधिक जानकारी और उसके सेवन से हमें क्या फ़ायदे होते हे ये देख लेते हे। About Shinghara In Hindi

Singhade ke fayade

 सिंघाड़ा के बारे में जानकारी

1 .सिंघाड़ा के पौधे का वैज्ञानिक नाम Trapa natans हे। 

2 . सिंघाड़ा एक जलीय पौधा हे जो पानी में उगता हे।

3 . इस पौधे की जड़े पानी के अंदर दूर दूर तक फ़ैली हुइ होती हे। 

4 . सिंघाड़ा का आकर त्रिकोन के समान होता हे। और झीलों , तालाबों और नदिओं में इसकी खेती भी होती हे।

5 . इस पौधे पर सफेद रंग के फूल लगते हे। 

6 . इस फल का छिलका बहार से मुलायम जबकि अंदर से सफ़ेद रंग का गुदा होता हे। 

7 . बाज़ार में आपको ये फल अक्टूबर से लेकर जनवरी तक दिखने को मिल सकता हे। 

8 . ये एक पौष्टिक फल हे जिनमे प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट , कैल्शियम , जिंक , आयरन , पौटेशियम जैसे पोषकतत्वों पाए जाते हे जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही उपयोगी साबित होते हे।

सिंघाड़ा के फायदे – Benefits Of Shinghara In Hindi

1 . इस फल के सेवन से आपको एनर्जी यानिकि ऊर्जा प्राप्त होती हे। 

2 . गैस , अपच और एसिडिटी जैसी समस्याओं सिंघाड़ा के सेवन से दूर होती हे। 

3 . एक चम्मच सिंघाड़ा के आटे को पानी में मिकालर पिने से अस्थमा में राहत होती हे। 

4 . इस फ़ल के सेवन से अनिद्रा से छुटकारा मिलता हे। 

5 . कच्चे सिंघाड़ा को खाने से पाईल्स के दर्द और रक्तस्त्राव को कम करने में सहायक साबित होते हे। 

6 . सिंघाड़ा को पीसकर पेस्ट बनाकर फिर सूजन वाले स्थान पर लगाने से सूजन कम होती हे। 

7 . रोजाना इसके सेवन से नाक से बहने वाला खून बंद हो जाता हे।

8 . इस फ़ल में पाए जाने वाले मिनरल्स जो थाइरोइड को कम करते हे।

9 . गर्भवती महिलाओ को इस फल का सेवन अचूक करना चाहिए क्योकि इसके सेवन से माता और बच्चे दोनों को पोषण मिलता हे और साथ ही साथ गर्भपात का ख़तरा भी कम होता हे।

10 . अगर आपको फ़टी एड़ियों की समस्या हे तो आपके लिए ये फल फायदेमंद साबित होता हे।

11 . सिंघाड़ा में पाए जाने वाले आयरन की वज़ह से हमारे शरीर का खून बढ़ता हे।

12 .  अगर आपको गले की ख़राश , गले का बैठना जैसी समस्या हे तो आप सिंघाड़ा के आटे को दूध के साथ मिलाकर पिने से आपको राहत मिलती हे।

13 . अगर आपको नाक से खून बहने या नकसीर फूटने की समस्या हे तो रोजाना सिघाड़ा खाने से ये समस्या दूर होती हे। 

14 . प्रतिदिन सिंघाड़ा के सेवन से महुमेह बीमारी की संभावना कम रहती हे। 

15 . सूखे सिंघाड़ा को घिसकर निम्बू के रस मिलकर दाद वाली जगह पर लगाने से आपको लाभ होता हे। 

16 . प्रतिदिन सिंघाड़ा या फिर उसका रस पिने से यूरिन इनफेक्शन और पैशाब सबंधित बीमारिया से बचा जा सकता हे। 

सिंघाड़ा के नुकशान

1 . अतिरेक सिंघाड़ा के सेवन से कब्ज़ , आँतो में सूजन की समस्या भी होती हे।

2 . सिंघाड़ा के सेवन से तुरंत पानी पिने से कफ़ और खांसी होने की संभावना रहती हे।

ये भी पढ़े। .

Badam – बादाम के चमत्कारिक फायदे

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद हे तो आप इस आर्टिकल अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *