तुलसी के प्रकार , जानकारी और फायदे

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम एक औषधीय पौधे के बारे में यानिकि तुलसी के बारे में बात करने वाले हे। इस पौधे को जड़ी – बूटियों की रानी भी कहा जाता हे क्योकि इस पौधे में अनेक सारे लाभकारी गुणों मौजूद होते हे। ये एक द्री बीजपत्री पौधा हे। ये पौधा जहाँ पर होता हे वहाँ अपनी सुगंध से आसपास के पर्यावरण को सुगंधमय बनाता हे। ये पौधा पूजनीय होने के साथ – साथ औषधीय गुणों से भरपूर भी होता हे। तुलसी की पत्तिया स्वाद में कड़वे एवम तीखी होती हे। ये समग्र भारत में पाए जाने वाला पौधा हे। इस पौधे के बारे में और भी जानकारी निचे दी गई हे।

तुलसी के फायदे

तुलसी की सामान्य जानकारी

  • तुलसी के प्रकार 

1 . तुलसी के पांच प्रकार होते हे।                                                                       श्याम तुलसी , राम तुलसी , वन तुलसी  , नीबू तुलस और ,श्र्वेत / विष्णु तुलसी   

इस पौधे का वैज्ञानिक नाम Ocimum tenuiflorum हे। 

2  . इस पौधे के सभी भाग यानिकि उनके जड़ , पत्ते , तथा बीज इन सभी का इस्तमाल आयुर्वेदिक औषधि के तोर पर किया जाता हे।

3 . अगर हम इस पौधे की ऊंचाई की बात करे तो ये पौधा 1 फुट से लेकर 3 फुट तक का होता हे।

4 . तुलसी का पौधा झाड़ी के रूप में उगता हे।

5 . तुलसी की पत्तिया आकर में लम्बी एवं अंडाकार और करीब एक से दो इंच की होती हे।

6 . हिन्दू धर्म में इस पौधे को प्रवित्र माना जाता हे इसलिए लोग अपने आँगन में इस पौधे को लगाते हे और नियमित रूप से उनकी पूजा करते हे। जबकि हमारे वेदो पुराणों में भी इस पौधे का वर्णन किया गया हे।

7 . कई सारे इंसान तुलसी की माला भी पहनना पसंद करते हे। जबकि इस माला को पहनने से हृदय को शांति मिलती हे।

8 . तुलसी के पौधे का इस्तमाल सर्दी – जुकाम , ख़ासी जैसे रोगो के लिए बहुत ही फ़ायदेमंद साबित होता हे।

9 . शायद आपको पता नहीं होंगा की सूर्यास्त के बाद तुलसी की पत्तिया तोड़ना अशुभ माना जाता हे।

10 . तुलसी का पौधा आमतौर पर करीब 3 साल के बाद उनके पत्ते कम और छोटे हो जाते हे जबकि उनकी शाखाएँ सुखी होने लगती हे इसलिए हमें ऐसे छोड़ को हटाकर नया छोड़ लगाने की आवश्यकता होती हे।

 तुलसी के फायदे -Tulasi Ke Fayade

1 . सर्दी – जुक़ाम के लिए तुलसी का पौधा एक रामबाण उपाय हे।

2 . इस पौधे के बीज के सेवन करने से कैंसर की संभावना कम रहती हे।

3 . हमारे पेट सबंधित बीमारियों जैसी की पेट में जलन , पेट का दर्द और गैस जैसे रोगों को दूर करने के लिए तुलसी का इस्तमाल किया जाता हे। 

4 . अगर आपको गुर्दे की पथरी हे तो आप तुलसी के रस में शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए क्योकि ऐसा करने से पैशाब ख़ुलकर आने लगेंगी जिसकी वज़ह से पथरी पिगलकर निकल जायेंगी।

5 . अगर आपको मुँह की दुर्गंध दूर करने के लिए तुलसी के पौधे का नियमित सेवन करने से मुँह की दुर्गंध दूर होती हे और मुँह साफ़ हो जाता हे।

6 . चहेरा के दाग़ और निखरता वापस लाने के लिए तुलसी का उपयोग किया जाता हे।

7 . अगर आप वज़न कम करना चाहते हो तो आपको तुलसी के पत्ते का नियमित रूप से सेवन करने से लाभ होता हे।

8 . धूम्रपान छोड़ने के लिए तुलसी के पौधे का सेवन करने से लाभ मिलता हे।

9 . शरीर की त्वचा जल जाने पर उस जग़ह पर तुलसी के रस लगाने से राहत मिलती हे।

10 . अगर आपको कान में दर्द होने पर आप तुलसी के रस को कान में डालने से आपको राहत मिलेंगी।

11 . तुलसी के बीज का इस्तमाल मूत्र की समस्या के इलाज के लिए भी होता हे।

ये भी पढ़े। .

एलोवेरा की जानकारी और फायदे – Aloe Vera In Hindi

गोरी बेरी के फायदे 

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद हे तो आप इस आर्टिकल को सेर करे।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *