काजल की लव स्टोरी – Very Sad Love Story In Hindi

     दोस्तों हम इस आर्टिकल के माध्यम से आज एक अनोखी प्रेम कहानी के बारे में बार करने वाले हे जिसमे एक अंधी लड़की को लडके से प्रेम हो जाता हे। तो चलो इस कहानी को हम शरू करते हे। sad love story In Hindi

Very Sad Love Story In Hindi

Very Sad Love Story In Hindi

    रामपुर नामक एक गांव था। जिसमें एक गरीब परिवार की एक लड़की उसका छोटा भाई राहुल और उसकी दादी तीनों साथ में किराये के घर में रहते थे यानिकि लड़की के माता पिता की अकस्मात में मौत हो चुकी थी। लड़की का नाम था काजल जो मुर्तिया बनाने का काम करती थी और राहुल मुर्तियो को लेकर बाजार में बेच डालता था। और वो उस पैसे से अपना जीवन गुजार करते थे। लड़की अंधी थी। मगर भगवान ने उसको ऐसी कला दी थी की वो अपने हाथो से बहुत ही सुंदर मुर्तिया बनाती थी। यहाँ तक की वो किसी भी इन्सान को छूकर भी उसकी मूर्ति बना सकती थी।

      एक दिन की बात हे की बारिश का मौसम था रात होने ही वाली थी और बारिश रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी। ऐसे में एक लड़का अपनी गाड़ी ख़राब होने की वज़ह से वो उस गरीब परिवार के दरवाज़े जाकर बोलता हे की कोइ हे क्या तभी राहुल आता हे और दरवाज़ा खोलता हे और उस लडके को अंदर आने को बोलता हे। तभी वो लड़का कहता हे की मेरा नाम अयान हे में इधर से जा रहा था तो अचानक मेरी गाड़ी ख़राब हो गइ। तो में बस इस रात तक आपके घर में रहना चाहत हु और सुबह ही में चला जाउंगा। तब दादीमा बोलते हे ठीक हे आप रह सकते हे। लड़का पैसे वाला था। मगर वो इतना खूबसूरत नहीं था की जीतनी काजल थी। उसने अपने बारे में सबको सब कुछ बताया और पायल ने भी उसको अपने परिवार के बारे में सब कूच बताया सब ने खूब बातें की और फिर सब खाना खाके सो गए।

   सुबह होते ही लड़का बोला आप सभी का में बहुत आभारी हु अगर मेरी कोइ भी जरूर हो तो आप मुझे मेरे इस नंबर पर फ़ोन कर सकते हे और उसके अपना नंबर काजल को दिया। और कूच मुर्तिया खरीद कर वो चला गया। उसके कुछ ही दिन बाद घर का मालिक घर का किराया लेने के लिए आता हे तो काजल और उसके परिवार के पास इतना पैसा नहीं होता। तो घर मालिक उनको सात दिन की मुदत देता हे और कहता हे की अगर तुमने सात दिन के अंदर घर का किराया नहीं दिया तो ये घर को तुम खाली कर देना और फिर वो चला जाता हे।

       बारिश के मौसम में मुर्तिया न बेचने की वज़ह से वो इतना पैसा इखट्टा नहीं कर सकते हे की वो घर का किराया दे सके। इस लिए सात दिन पुरे होने के बाद घर मालिक घर का किराया लेने के लिए वापस आता हे और इधर वो लड़का अयान भी वापस अपने शहर जाने के लिए वहां से निकलता हे तब वो काजल के घर उनका और उनके परिवार का हालचाल पूछने के लिए जाता हे तभी वो देखता हे की घर मालिक काजल और उनके परिवार को घर खाली करने को कहता हे या तो किराया देने के लिए कहता हे ये सब अयान सुनकर अपनी ज़ेब से पैसा निकालकर उस घर मालिक को देता हे और घर मालिक वहा से चला जाता हे। पायल अयान का दिल से आभार मानती हे। अब अयान जैसे हे वो रामपुर में आता तो वो सबसे पहले काजल और उसके परिवार को मिलता। अब धीरे धीरे अयान प्रतिदिन काजल से मिलने आता यानिकि उनको काजल से प्रेम हो जाता हे और काजल को भी अयान के अच्छे स्वाभाव की वज़ह से उनको भी अयान से प्रेम हो जाता हे। Very Sad Love Story In Hindi

           इस प्रेम कहानी को करीब दो साल हो जाते हे एक बार अयान काजल से बोलता हे की में तुम्हारी आँखों का ऑपरेशन करवाना चाहता हु ताकि तुम पूरी दुनिया को देख सको। तब काजल अयान से कहती हे नहीं में तुम्हारी बोज नहीं बनना चाहती। लेकिन अयान मानता नहीं हे। और बोलता हे अब तुम मेरी पूरी जिन्दगी हो अब में मरूंगा तो भी तुम्हारे लिए और जीऊँगा तो भी तुम्हारे ही लिए में अब तुम्हारे बिना नहीं जी सकता। और वो काजल से कहता हे की अलगी बार जब में शहर जाऊंगा तो पैसो का इंतजाम करके ही वापस आऊंगा। तभी काजल कहती हे की में आपको स्पर्श करके आपकी मूर्ति बना लू ताकि आपकी जब भी याद आये तो में उस मूर्ति को छूकर आपको महसूस कर सकू। और वो अयान के चहेरे को स्पर्श करके अयान जैसी ही मूर्ति बनाती हे। 

      कूच दिनों के बाद अयान वापस काजल के घर आता हे और काजल को हॉस्पिटल में आँखों के ऑपरेशन के लिए ले जाता हे। अब अयान पैसे कम पड़ने की वज़ह से वो पैसे लेने के लिए शहर जाता हे और यहाँ काजल का ऑपरेशन भी समाप्त होता हे। तब नर्स काजल को अपनी आँखों की पट्टी खोलने के लिए बोलती हे तब काजल कहती हे जब अयान मेरे सामने होंगे तभी में ये पट्टी खोलूँगी क्योकि में सबसे पहले उनको ही देखना चाहती हु। क्या पता काजल के नसीब में अयान का चहेरा दिखना लिखा ही नहीं था। यहाँ अयान पैसे लेकर आता ही था की उसका अकस्मात हो जाता हे और वो कोमा में चला जाता हे। और काजल को अयान के अकस्मात के समाचार मिलते हे तब वो ये बात मानने ले लिए तैयार होती नहीं हे और अयान की याद में दिन रात सिर्फ आसु बहाया करती हे। और यहाँ अयान का अकस्मात होने की वजह से उनका दोस्त विहान उनको अपने ही हॉस्पिटल पर ले जाता हे। और वहा उनकी सारवार करता हे। 

         पांच साल के बाद भी काजल अयान की तलाश जारी रखती हे और उनकी याद में हमेंशा बेचैन रहती हे। मगर उसके भाई राहुल और अपनी दादीमा से बार बार कहने पर काजल शादी के लिए तैयार हो जाती हे। काजल की जिसके साथ शादी होने वाली होती हे वो विहान ही होता हे यानिकि अयान का दोस्त। पांच साल बाद अयान कोमा में से बहार आता हे तो विहान बहुत ही खुश होता हे और वो अयान को अपने साथ अपनी पत्नि से मिलवाने के लिए उनको काजल के घर ले जाता हे तब अयान काजल को देखता हे और काजल भी अयान को देखती हे मगर अयान का चहेरा उसने कभी देखा ही नहीं था इसलिए वो अयान को सिर्फ विहान का दोस्त ही समझती हे। अयान भी राहुल और उनकी दादीमा को काजल को अपने बारे में कूच भी ना कहने के लिए बोलता हे ताकि उसके दोस्त विहान की शादी हो सके। और अयान भी काजल के होते वो चुप ही रहता हे ताकि उनको पता न लग सके की में ही अयान हु। और फिर विहान और अयान दोनों अपने घर जाने के लिए अपनी गाड़ी में बैठते हुए दोनों काजल के बारे में बात करते हे। तभी काजल अचानक वहां विहान को उनका पर्स भूल जाने की वजह से वो लौटाने के लिए आती हे तब वो अयान की आवाज़ को पहचान लेती हे और वो विहान को पर्स देखर तुरंत अपनी दादीमा के पास जाती हे और बोलती हे की दादी तुमने मुझे बताया क्यू नहीं की ये ही अयान हे। तब अयान ने दादीमा को बताना मना किया था इसलिए दादीमा उनको समझाते हे की ये अयान नहीं हे ये तो विहान का दोस्त हे। ऐसे करके बहुत समझाने का प्रयास करती हे मगर काजल मानने के लिए तैयार नहीं होती और वो अयान की मूर्ति बनाने का प्रयास करती हे मगर मूर्ति नहीं बनती काजल  फिर कोशिश करती हे मगर मूर्ति बनने का नाम ही नहीं लेती। आखरी कार काजल अपने आँखों पर पट्टी बांधकर अयान की हूबहुब मूर्ति बनती हे और विहान को बुलाती हे तो विहान अयान की मूर्ति को देखकर शौक हो जाता हे और काजल विहान को अपने और अयान के बारे में सब कूच बताती हे और फिर विहान अयान और काजल की शादी करावा देता हे।

तो दोस्तों अगर आपको ये कहानी अच्छी लगे तो आप इसको अपने दोस्तों के साथ भी सेर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *